POK Full Form | POK Kya Hai – पूरी जानकारी हिंदी मे 2021

0
27
POK Full Form
POK Full Form

POK Full Form | POK Kya Hai – पूरी जानकारी हिंदी मे 2021 : दोस्तों India और Pakistan के बटवारें के बाद जम्मू-कश्मीर दोनों देशों के लिए सबसे विवादित विषय बना हुआ हैं और आज के समय मे कश्मीर दो हिस्सों में बट गया है. आज Kashmir का जो हिस्सा भारत से लगा हुआ है वह जम्मू और कश्मीर के नाम से जाना जाता हैं और जो कश्मीर का हिस्सा Pakistan से लगा हुआ है उसे POK के नाम से जाना जाता है. 

Jammu और Kashmir घरती पर बेहद खूबसूरत जगहों में से एक है इसलिए इसे धरती का स्वर्ग एवं ज़न्नत भी कहा जाता हैं परंतु यह दो देशों के विवाद का विषय होने के कारण उतनी Popularity हासिल नहीं कर पाया है.
जम्मू और कश्मीर के अंतिम महाराजा हरि सिंह थे और वह जम्मू-कश्मीर को एक अलग देश बनाना चाहते थे लेकिन फ़िर बाद में उन्होंने जम्मू और Kashmir का India मे विलय कर दिया था. 

इसलिए Jammu और कश्मीर India का अभिन्न अंग बन गया परंतु आज जो कश्मीर का हिस्सा Pakistan से लगा हुआ है उसे POK के नाम से क्यों जाना जाता है और यह कैसे हुआ.इसलिए आज हम आपको POK Full Form और साथ ही POK का इतिहास के बारे में Information देने वाले हैं इसलिए अगर आप इसके बारे में विस्तार से जानना चाहते है तो इस Article को पूरा पढें. 

POK Full Form

POK Full Form
POK Full Form

POK Full Form :- Pakistan Occupied Kashmir और POK को Hindi में “पाक अधिकृत कश्मीर” कहा जाता हैं.POK की सीमाएं Pakistani पंजाब एवं उत्तर पश्चिमी सीमांत प्रांत से पश्चिम में, उत्तर पश्चिम में अफ़गानिस्तान के वाखान गलियारे से, चीन के ज़िन्जियांग उयघूर स्वायत्त क्षेत्र से उत्तर और Indian कश्मीर से पूर्व में लगती हैं. 

POK को दो हिस्सों में बांटा गया है जिसे आज़ाद Kashmir और गिलगिट बल्तिस्तान कहा जाता हैं और पाकिस्तान के POK में ही अक्साई चीन भी शामिल है और POK के आज़ाद कश्मीर में लगभग 45 लाख लोग रहते है और आज़ाद Kashmir का क्षेत्रफल 13,300 वर्ग Kilometers हैं और इसकी राजधानी मुजफ्फराबाद है जिसमें 8 ज़िले और 19 तहसील हैं. 

POK: जम्मू और कश्मीर का इतिहास जानें

दोस्तों जब भी हम Jammu और Kashmir की बात करते हैं तो सबसे पहले महाराजा हरि सिंह का नाम आता है क्योंकि वह उस समय और आख़री जम्मू-Kashmir के महाराजा थे औऱ वहाँ पर उनका राज चलता था.महाराजा हरि सिंह को Jammu-Kashmir की राजगद्दी विरासत में मिली थीं और इन्होंने चार शादियां की थीं इनकी पहली पत्नी का नाम धरम्पुर रानी श्री लाल कुन्वेर्बा साहिबा थी और दूसरी पत्नी चम्बा रानी साहिबा थी और तीसरी पत्नी धन्वन्त कुवेरी बैजी साहिबा थी और चौथी एवं अंतिम पत्नी महारानी तारा देवी साहिबा थी जिनसे एक पुत्र था जिसका Name युवराज कर्ण सिंह था. 

साल 1947 में India की आज़ादी के बाद India और Pakistan अलग-अलग देश बने और उस समय भारत में रियासतें हुई करती थीं. भारत और पाकिस्तान के बटवारें के समय अंग्रेजों ने वहाँ की रियासतों को अपनी इच्छानुसार India और Pakistan में शामिल होने का विकल्प दे दिया था. 

जिसके परिणामस्वरूप जिन रियासतों में मुसलमानों की संख्या ज्यादा थी और उसका राजा भी मुसलमान था वह Pakistan में शामिल हो गयी और जहाँ पर हिंदुओं की संख्या ज्यादा थी और वहाँ का राजा हिन्दू था वह India मे शामिल हो गयी और जो रियासत अपने-आप को स्वतंत्र रखना चाहती थी रख सकती थी. 

जम्मू एंड कश्मीर का भारत मे विलय? 

दोस्तों महाराजा हरि सिंह जम्मू-कश्मीर को भारत और Pakistan दोंनो से अलग रखना चाहते थे और इस राज्यों को एक अलग देश बनाना चाहते थे लेक़िन जम्मू और Kashmir में हालत गंभीर होने की स्थिति में महाराजा हरि सिंह जम्मू-कश्मीर का India में विलय करने पर हस्ताक्षर किये. 

असल मे, Pakistan ने जम्मू और कश्मीर पर कब्ज़ा करने के लिए पाकिस्तान सेना ने कबायलियों के साथ मिलकर हमला कर दिया जिसके बाद महाराजा हरि सिंह ने जम्मू और Kashmir में सैन्य मद्त मांगी और जम्मू और कश्मीर का India मे विलय कर दिया गया. 

जिसके बाद Indian सेना एयर विमानों के द्वारा जम्मू और कश्मीर में पहुंच चुकी थी औऱ अगले कुछ ही दिनों में पाकिस्तान सेना और कबायलियों को खदेड़ दिया गया। अभी भारतीय सेना पूरे कश्मीर से Pakistan सेना और कबायलियों को खदेड़ ही रही थी. 

तो उस समय India के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू इस मुद्दे को लेकर सयुक्त राष्ट्र में पहुच गए और जनमत संग्रह करने की बात कह दी. यह जवाहर लाल नेहरू की सबसे बड़ी गलती मानी जाती हैं क्योंकि भारत पूरे कश्मीर से Pakistan सेना और कबायलियों को खदेड़ने वाला था. 

जिसके परिणामस्वरूप 5 January 1949 को सीजफायर का ऐलान कर दिया गया जिसके अनुसार जो सेना उस Time जिस हिस्से में थीं उसे ही युद्ध की विराम रेखा माना गया जिसे LOC कहा जाते है इस तरह कश्मीर का कुछ हिस्सा पाकिस्तान में चला गया जिसे आज POK के Name से जाना जाता है. 

हालाँकि 26 October 1947 में ही महाराजा हरि सिंह द्वारा जम्मू-कश्मीर का India मे विलय कर दिया गया था और यह प्रस्ताव बाक़ी रियासतों के भारत मे विलय करने जैसा ही था जिसमें किसी प्रकार की कोई शर्त नहीं रखी गयी थीं ज़िसके परिणामस्वरूप पूरा जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बन चुका था जिसमें Pakistan द्वारा कब्जे वाला इलाका POK भी शामिल था. 

जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 और 35A का जन्म और हटाना

दोस्तों इसके बाद India का सविधान लिखना शरू हुआ था इसी दौरान 17 October 1947 में गोपाल स्वामी अयंगार ने संसद में कहा कि आधे जम्मू-कश्मीर पर Pakistan का कब्ज़ा है और आधे लोग उधर और आधे लोग इधर फंसे हुए है इसलिए इस राज्य की स्थिति अन्य राज्यों से अलग है. 

जिसके कारण Jammu-Kashmir पर पूरा सविधान लागू नही किया जा सकता इसलिए जम्मू-कश्मीर को नया Article देना चाहिए इस घटना ने जम्मू-कश्मीर के इतिहास को New मोड़ दे दिया जिसके कारण जम्मू-कश्मीर को एक विषय राज्य का दर्जा दिया गया.

जिसके लिए जम्मू-कश्मीर में अस्थायी तौर पर Article 370 को लागू किया गया जिसके अंतर्गत संसद को Jannu-Kashmir पर रक्षा, विदेश मामलों औऱ संचार पर ही कानून बनाने का अधिकार था और अगर किसी अन्य विषय पर कानून बनाना है तो उसके लिए राज्य Government की मंजूरी होनी चाहिए.दोस्तों इसके बाद 1952 में India के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू और शेख़ अब्दुल्ला के बीच एक एग्रिमेंट हुआ जिसे “दिल्ली एग्रिमेंट” कहा जाता है जिसके तरह अनुच्छेद 35A को जोड़ा गया. 

लेक़िन हाल ही में Indian Government द्वारा Article 370 और 35A को हटा दिया गया हैं जबकि यह एक टेंपरेरी प्रोविजन फॉर द स्टेट ऑफ द Jammu और Kashmir था यानी कि एक ऐसा क़ानून जो अस्थायी तौर पर लागू किया गया था फ़िर भी कई वर्षों तक इस कानून को जम्मू एंड कश्मीर पर थोपा गया तो अब आप जान चुके है कि Jammu और Kashmir का इतिहास क्या है और POK कैसे आया?

Conclusion

दोस्तों आज के इस Post पर मैंने आपको बताया है की (POK Full Form | POK Kya Hai – पूरी जानकारी हिंदी मे 2021) तो अगर आपके मन में इससे जुड़े कोई भी (POK Full Form) सवाल है तो आप निचे Comment में पुच सखते हो, में उसका जबाब देने की पूरी कोशिस करूँगा. और भी नए नए जानकारी जानने के लिए हमारे Blog को Visit कर सखते हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here